TMC Full Form – TMC के बारे में पूरी जानकारी।

यह तो आप जानते ही होंगे कि हमारे देश में अलग-अलग तरह की राजनीतिक पार्टियां हैं और हमारे देश के राजनीतिक दलों को तीन भागों में बांटा गया है, जिनको राष्ट्रीय पार्टी राज्य पाठ्य क्षेत्र पार्टी के नाम से जाना जाता है आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे TMC की क्या आप जानते हैं कि TMC क्या होता है, अगर नहीं तो आज के इस Post में हम आपको विस्तार से बताएंगे TMC क्या है, तो अगर आप भी है जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारी इस Post पर आखिरी तक बने रहें।

अगर हम बात करें हमारे भारत देश की तो हमारे भारत देश में राजनीतिक पार्टियां अलग-अलग तरह के हैं Election Commission को राजनीतिक भागों में बांटा गया है राष्ट्रीय पार्टी राज्य पत्र पार्टी के नाम से जाना जाता है, अगर हम बात करें कि वर्तमान समय में राष्ट्रीय पार्टी कितनी है, भारत में तो इनका आंकड़ा है 7 यानी 7 राजनीतिक पार्टियों को राष्ट्रीय दल का दर्जा मिला है, और अगर बात करें अन्य दलों की तो 50 डालो को National Level और field level पर लगभग 2293 पार्टियां registered है। आज की Post में लेकिन हम आपको बताने वाले हैं कि TMC क्या होता है तो आइए जानते हैं विस्तार से।

TMC क्या है?

TMC Full Form - TMC के बारे में पूरी जानकारी।

अगर हम बात करें TMC की तो इसकी Full Form होती है Trinamool Party आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस को Congress राष्ट्रीय स्तर का दर्जा मिला हुआ है। TMC एक पश्चिम बंगाल की राजनीतिक पार्टी है और इस पार्टी को Congress की विघटन के बाद बनाया गया था, तो आइए जानते हैं TMC से जुड़ी कुछ जरूरी बातें।

AITC या TMC की Full Form

अगर बात की जाए AITC की Full Form की तो यह होती है और All India Trinamool Congress TMC एक Major Political party है, भारत की और यह सबसे ज्यादा Active west bengal में है। AITC Execpted Election Symbol 2 फूल है, अब हम आपको बताएंगे कि TMC का मतलब क्या होता है।

TMC का मतलब क्या होता है?

TMC के मतलब कि अगर बात करें तो यह पश्चिम बंगाल की एक अहम क्षेत्रीय दल है, आपकी जानकारी के लिए बता दें कि लगभग 2 दशक तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस क काम करने के बाद ममता बनर्जी ने 1 जनवरी 1998 को अपनी पार्टी All India Trinamool Congress की स्थापना की थी और वर्तमान समय में इस पार्टी की अध्यक्ष ममता बनर्जी हैं, वर्ष 2011 की बात करें तो पश्चिम बंगाल में इस पार्टी ने विधानसभा चुनाव में 294 में से 184 सीटों से जीत कर पूर्ण बहुमत प्राप्त किया था और यहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बनी थी।

अगर हम बात करें 2014 की तो 2014 के चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने 42 सीटों में से 34 सीटों पर जीत हासिल की थी और यह एक बड़ी पार्टी के रूप में उभर कर आई थी इसी तरह इस पार्टी को आयोग द्वारा राष्ट्रीय राजनीतिक दल के रूप में मान्यता प्राप्त हुई थी

AITC का इतिहास।

अब बात करते हैं AITC के इतिहास की तो TMC प्रमुख ममता बनर्जी ने लगभग 26 साल तक कांग्रेस का साथ निभाया था लेकिन उनकी विचारधारा मेल ना खाने के कारण उन्होंने 1998 में कांग्रेस का दामन छोड़ दिया और ममता बनर्जी ने अपनी नई पार्टी तृणमूल कांग्रेस की शुरुआत की इनके दस्तावेज 1999 दिसंबर में चुनाव आयोग में दर्द भी हो गए और इसके बाद इनने भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन कर लिया और लोकसभा चुनाव में इन्होंने 8 सीटों पर अपनी जीत दर्ज की।

इसी तरह से तृणमूल कांग्रेस सफलता की सीढ़ियां चढ़ती गई और वर्ष 2000 में इन्होंने कोलकाता नगर निगम चुनाव शानदार जीत हासिल की थी और इसको भी अपने नाम कर लिया था, सन 2001 की अगर बात करें तो पार्टी ने गठबंधन के लिए कांग्रेस से हाथ मिलाया और विधानसभा चुनाव में इन्होंने 60 सीटों पर जीत हासिल की जबकि अगर 2004 की बात की जाए तो केवल एक सीट पर इन्होंने अपनी जीत दर्ज की थी।

साल 2006 में इस गठबंधन विधानसभा चुनाव में इन्होंने 30 सीटों पर अपनी जीत दर्ज की और साल 2011 में उन्होंने पश्चिम बंगाल में राज्य विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने 294 में से 184 सीटों पर जीत हासिल की और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बने इसके बाद 2012 में तृणमूल कांग्रेस ने कांग्रेस से गठबंधन समाप्त कर दिया।

TMC की राजनीतिक विचारधारा

अगर तृणमूल कांग्रेस की राजनीतिक विचारधारा की बात करें तो तृणमूल कांग्रेस का बंगाली में राजनीतिक नारा था “मां माटी और मनुष्य” और यह 2011 बंगाल विधानसभा प्रचार में बहुत दूर-दूर तक फैल गया और उसकी एक पहचान बन गई थी और यह नारा भारत के 6 प्रचलित नारों में से एक बन गया था और इसकी पुष्टि 2011 में प्रकाशित एक Report में भी हुई।

Kerela Election

अब बात करते हैं Kerela Election की तो तृणमूल पार्टी ने धीरे-धीरे अपना कदम Keral की तरफ बढ़ाया और इन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव में TMC ने 5 सीटों पर अपने प्रत्याशियों को मैदान में उतारा और 2016 की अगर बात करें तो उन्होंने 2016 में केरल में विधानसभा तृणमूल कांग्रेस पार्टी बिना किसी गठबंधन के चुनाव में खड़ी हुई और चुनाव लड़ा।

Manipur Election

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तृणमूल कांग्रेस पार्टी पहली बार पश्चिम बंगाल से बाहर निकली और इन्होंने 2012 के विधानसभा में 8 सीटों पर जीत दर्ज की सबसे खास बात यह है, कि 7 सीटों वाली मणिपुर विधानसभा में तृणमूल कांग्रेस 10% वोटों के साथ अकेली विपक्ष पार्टी बन गई थी लेकिन 2017 में केवल 1 सीट पर इन्होंने जीत प्राप्त की थी विष्णुपुर की जबकि कांग्रेस की सबसे ज्यादा सीटें थी तब भी यह पार्टी रह गई मणिपुर 2017 चुनाव में TMC को मतदान का 5.6% वोट प्राप्त हुआ था।

TMC का सदस्य कैसे बनें।

अब अगर हम बात करें कि TMC का सदस्य बनने के लिए क्या करना होता है, और TMC का सदस्य कैसे बना जा सकता है तो इसके लिए आपको क्षेत्र के स्थानीय कार्यालय में संपर्क करना होता है इसके अलावा भी आप इसकी अधिकारिक website AITC Portal http://aitcofficial.org/ पर जाकर आप Online सदस्यता प्राप्त कर सकते हैं।

भारत की सभी National Parties की List

क्र०स०पार्टी का नामगठन
1.भारतीय जनता पार्टी (BJP)1980
2.बहुजन समाज पार्टी (BSP)1984
3.मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (CPM)1964
4.भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI)1925
5.भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC)1885
6.राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP)1999
7.तृणमूल कांग्रेस पार्टी  (TMC)1998
8.नेशनल पीपुल्स पार्टी2013

तो अब आप जान गए होंगे कि TMC क्या है इसमें किस तरह से अपनी लोकप्रियता बढ़ाई और इसका इतिहास क्या है, तो अगर आपको हमारे आज के आर्टिकल द्वारा दी गई जानकारी पसंद आए तो इसे आगे भी जरूर शेयर करें और नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें जरूर बताएं उम्मीद करते हैं हमारे आज के आर्टिकल द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए बहुत ही ज्ञानवर्धक साबित होगी।

यह भी पढ़ें।

Leave a Comment