इस आर्टिकल में हम बात करेंगे सट्टा किंग के बारे में, यदि आप सट्टा किंग खेलते हैं या फिर खेलने का सोच रहे हैं और आपको सट्टा किंग से जुड़ी कोई भी जानकारी नहीं है, तो इस आर्टिकल में आपको सट्टा किंग से जुड़ी पूरी जानकारी मिलेगी। जिसको पढ़ने के बाद आपको पता चल जाएगा कि आखिर में सट्टा किंग किस चिड़िया का नाम है और इसको खेलने के क्या फायदे और नुकसान है।

यदि आप भी सट्टा किंग के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आज के इस आर्टिकल को आप शुरू से लेकर आखिर तक बिल्कुल ध्यान से पढ़ें। इस आर्टिकल में हमने आपको पूरी चीजें बताएं हैं जिससे आपको सट्टा किंग से जुड़ी पूरी जानकारी हो जाएगी।

सट्टा मटका एक पारंपरिक खेल है जो कि भारत देश में विकसित किया गया और बनाया गया था, सट्टा मटका 90 के दशक में व्यापक रूप से लोगों को बहुत ही ज्यादा लोकप्रिय था, अधिकांश लोग उस समय इस खेल को खेलते थे, ना केवल पुरुष बल्कि स्त्रियां, ग्रहणी भी सट्टा मटका खेल पर पैसे लगाती थी।

सट्टा मटका गेम क्या होता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे सट्टा मटका गेम की शुरुआत रतन खत्री द्वारा 70 के दशक में की गई थी और रतन खत्री को ही इस गेम का निर्माता माना जाता है, आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे जब यह गेम नया-नया भारत में आया था तो इस गेम को बहुत ज्यादा लोकप्रियता मिली, लेकिन समय के साथ जैसे ही यह गेम पुराना होता गया उसी तरह से लोगों के बीच इस गेम का इंटरेस्ट भी कम होने लगा।

आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि इस खेल को भारतीय समाज के लोगों के द्वारा इसे बुरी आदत माना जाता था, और यह कानूनी खेल नहीं था इसका मतलब यह खेल भारत में banned, illegal है, यदि कोई भी व्यक्ति इस गेम को चलाता है या फिर सट्टा मटका पर पैसे लगाते हुए पकड़ा जाता है तो उस पर कानूनी कार्यवाही भी की जा सकती है और जुए के पैसे भी जप्त किए जा सकते हैं, साथ ही बड़ा जुर्माना उस व्यक्ति पर लग सकता है, इसका मतलब यह है कि सट्टा मटका एक प्रकार का जुआ है जो कि भारत में पूर्ण रूप से अवैध है।

आपको बताना चाहेंगे, सट्टा मटका जैसे जितने भी गेम है यहां पर सिर्फ दो बातें होती है या तो आप यहां पर जितना भी पैसा लगाते हैं वह सारा पैसा हार जाएंगे या फिर दूसरी तरफ आप कम पैसा लगाकर बहुत जल्दी ज्यादा से ज्यादा पैसा कमा सकते हैं, यहां पर पूरी चीज सिर्फ और सिर्फ किस्मत के ऊपर चलती है यदि आपकी किस्मत अच्छी होती है तो आपका सट्टा मटका में नंबर आता है और आप बहुत जल्द लखपति से करोड़पति भी बन सकते हैं, लेकिन इसके चांस बहुत कम होते हैं कि आपका सट्टा मटका में नंबर आए।

सट्टा मटका गेम को आमतौर पर किस्मत की गेम के रूपों में जाना जाता है एक हद तक यह बात सही भी है लेकिन एक व्यक्ति पुराने आंकड़ों का अच्छे से अध्ययन करके आगे आने वाले नंबरों को पता कर सकता है। और वह सट्टा मटका के द्वारा बहुत जल्द बहुत सारा पैसा कमा सकता है।

सट्टा मटका में उस व्यक्ति को ही सफल माना गया है जिसकी गणित बहुत ज्यादा अच्छी है और वह व्यक्ति सट्टा मटका में जितने भी पुराने आंकड़ों को याद रख सके, उसका अच्छे से ध्यान रख सके। यदि यह दोनों बातें किसी भी एक व्यक्ति पर फिट होती है तो वह व्यक्ति सट्टा मटका के द्वारा बहुत ज्यादा पैसा कमा सकता है।

सट्टा मटका Game खेलने का तरीका।

Satta King Result - सट्टा मटका क्या है। यहां जानिए

आपकी जानकारी के लिए बता दें सट्टा मटका गेम पूरी तरह से सिर्फ एक संख्या के ऊपर चलता है इस गेम में आपको अपने अनुसार कोई भी एक नंबर का चयन करना होता है, और फिर उस नंबर पर अपनी इच्छा अनुसार पैसा लगाना होता है। यदि आपने जिस नंबर पर पैसा लगाया है और वह नंबर सट्टा मटका के रिजल्ट में आता है तो आपकी लॉटरी लग जाती है और आपको उसके बदले में पैसे मिलते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे जैसे आपने सट्टा मटका में कोई नंबर लगाया तो सिर्फ आपने ही नहीं उस सट्टा मटका में नंबर लगाया होगा, आपकी तरह और भी काफी सारे व्यक्ति होंगे जिन्होंने सट्टा मटका में अपना मन पसंदीदा नंबर लगाया होगा। यदि उन लोगों का नंबर गलत हो जाता है या फिर आपने किसी संख्या पर पैसे लगाए और वह नंबर नहीं आता, तो आपको आपका पैसा नहीं मिलता साथ ही जो पैसे आपने सट्टा मटका में लगाए थे वह भी आप हार जाते हैं।

खेल बहुत ही ज्यादा सरल है और हर किसी के द्वारा समझा जा सकता है इसकी सरलता ही इसकी लोकप्रियता का कारण रहा है यह खेल एक विदेशी खेल रुलेट राउंड जैसे खेल जैसा ही है, मूल रूप से खिलाड़ी को पैसे की जीत के लिए दोनों ही खेलों में सही संख्या का अनुमान लगाने की जरूरत होती है, और अगर संख्या सही हुई तो व्यक्ति जीत जाता है।

कल्याण मटका क्या है?

कल्याण मटका सट्टा सट्टेबाजी का एक खेल है एक व्यक्ति अपनी बोली को एक नंबर पर रखता है और अगर उसका अनुमान सही होता है तो वह व्यक्ति बहुत सारे पैसे जीत जाता है पैसों की रकम आपके नंबर पर और उस पर लगाए गए पैसे पर निर्भर होती है, कल्याणजी भगत ने 1962 में सट्टा खेल शुरू किया था, जबकि रतन खत्री 1964 में सट्टा खेल में पेश हुए थे, दोनों ही अभी भी मटका एल के नाम से जाने जाते है

कल्याण मटका गेम का इतिहास।

जैसा कि हमने आपको बताया कल्याण मटका की शुरुआत कल्याण भगत ने की थी आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कल्याण भगत मुंबई के निवासी नहीं थे वह मुंबई में कुछ बड़ा काम करने के लिए आए थे आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कल्याण भगत के पिता एक किसान थे। कहा जाता है कि जब कल्याण भगत ने सट्टा मटका की शुरुआत नहीं की थी उससे पहले मैं मसाले के विक्रेता थे।

आपको बताना चाहेंगे कल्याण मटका हफ्ता के सातों दिन चलता है। बऔर जो सट्टा मटका रतन खत्री द्वारा बनाया गया था वह सिर्फ भारत में सोमवार से शुक्रवार ही चलता है यानी कि रतन खत्री द्वारा चलाया गया सट्टा मटका हफ्ते में 5 दिन ही चलता है।

भारत में कुछ गांव आज भी ऐसे हैं जहां पांच सट्टा मटका खेल को जोरों शोरों से खेला जाता है पहले यह खेल शहरों में भी खेला जाता था लेकिन शहर में पुलिस की सख्ती की वजह से इस गेम को ज्यादा नहीं खेला जाता। इस गेम को खेलने और खिलाने वाले व्यक्ति को अगर यह गेम खेलना है तो उसको गांव में आकर बस ना पड़ता है क्योंकि गांव में पुलिस का इतना ज्यादा डर नहीं होता।

यदि आप भी सट्टा मटका गेम खेल कर जल्दी अमीर होने का सोच रहे हैं तो कृपया करके आप ऐसा ना करें। यदि आप सट्टा मटका गेम में एक बार जीते जाते हैं तो आपको इस गेम की लत लग जाएगी, और इस गेम में आप हर बार जीतते हैं यह बिल्कुल भी सच नहीं है, इस गेम में आप ज्यादा से ज्यादा हारेंगे और कम से कम ही जीतेंगे। तो आप जल्दी पैसा कमाने की फिराक में इस तरीके के गेम बिल्कुल ना खेलने और मेहनत करने पर विश्वास रखें, क्योंकि कठिन परिश्रम ही सफलता की असली निशानी है।

तो अब आपको सट्टा किंग से जुड़ी पूरी जानकारी मिल चुकी होगी और आपको सट्टा किंग के बारे में पता चल चुका होगा, यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई तो आप इस आर्टिकल को अपने उन दोस्तों तक जरूर शेयर करें, जो सट्टा किंग खेलने में विश्वास रखते हैं। धन्यवाद दोस्तों इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए।

ये भी पढ़ें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here