BDC की Full Form क्या है – BDC क्या है।

आज की इस Post में हम आपको बताएंगे कि BDC क्या होता है, आपमें से कुछ लोग तो जानते होंगी कि BDC क्या होता है लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होंगे जिन्हें नहीं पता कि BDC क्या होता है, तो आज हम आपको पूरे विस्तार से बताएंगे कि BDS क्या होता है, अगर आप भी या जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारी इस Post पर आखिरी तक बने रहें।

सबसे पहले तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत एक कृषि प्रधान देश है, और हमारे भारत देश में 67% जनसंख्या गांव में रहने वाले लोगों की है, अगर अपने गांव में कोई विकास चाहता है तो सरकार द्वारा विकास करने के लिए गांव के लोगों को सीधा गांव के प्रधान से बात करनी पड़ती है, और इसी क्षेत्र पंचायत सदस्य कि BDC को चुना जाता और इसके बाद सभी BDC मिलकर एक ब्लाक प्रमुख का चुनाव करते हैं, आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ब्लाक प्रमुख 1 BDC सदस्य का मुखिया होता है, वहीं पर ग्राम पंचायत में कई कार्य भी सोपे जाते हैं BDC को जैसे कि गांव में नालियों का निर्माण करना, खड़ंजा लगवाना, पानी की समस्या और भी बहुत सी समस्याओं को हल करने के लिए कार्य सौंपे जाते हैं, और यह सभी BDC की निगरानी में होते हैं।

BDC की Full Form क्या है?

BDC Full Form - BDC क्या है।

वैसे तो आपने BDC के बारे में सुना भी होगा और आप में से शायद कुछ लोग जानते भी होंगे की BDC क्या होता है, लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि BDC की Full Form क्या होती है अगर नहीं तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि BDC की Full Form होती है Block Development Council और इसको हिंदी में क्षेत्र सदस्य भी कहा जाता है, जिसको Short Form में BDC कहते हैं, और कुछ जगहों पर इसको प्रखंड विकास समिति भी कहा जाता है। अगर Business के क्षेत्र की बात की जाए तो यह बहुत ही प्रसिद्ध शब्द है जिसे क्षेत्रों में Business Development Company भी कहा जाता है।

BDC Election Process

अगर बात की जाएगी BDS का Election Process क्या होता है, तो इसकी प्रक्रिया बहुत ही साधारण होती है जो राज्य सरकार की निर्वाचन आयोग द्वारा करवाई जाती है, और आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसका चुनाव Ballot Paper के माध्यम से कराया जाता है, इस BDC की पंचायत में ग्राम सभा की जनता सीधे रूप से ही भाग लेती है, BDC के लिए एक Ward निश्चित होता है, जिसमें सिर्फ उसी के अंतर्गत आने वाले Voters ही भाग ले सकते हैं, BDC की खास बात यह भी है कि 1 ग्राम पंचायत में एक से अधिक BDC भी हो सकते हैं, लेकिन इस चुनाव की प्रक्रिया में सिर्फ जीतने वाले उम्मीदवार को ही BDC माना जाता है।

Eligibility for BDC

अगर BDC के लिए योग्यता की बात की जाए तो अभी फिलहाल इसकी कोई भी योग्यता निर्धारित नहीं की गई है लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार और राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा वर्ष 2021 में होने वाले चुनाव पंचायत Election में सभी उम्मीदवारों के लिए एक योग्यता निर्धारित करने की योजना बनाई जाएगी और चुनाव की घोषणा के साथ नियमों की भी घोषणा की जा सकती है।

BDC का वेतन कितना होता है?

BDC के वेतन की बात करें तो फिलहाल उत्तर प्रदेश में अभी BDC का कोई भी वेतन निर्धारित नहीं किया गया है, लेकिन कुछ देश के राज्यों में वेतन निर्धारित किया जा चुका है जैसे कि मध्य प्रदेश क्षेत्र पंचायत सदस्य को मानदेय के रूप में 4500 से ₹4800 तक देने का प्रावधान किया गया है, इसी तरह से भारत में भी किसी राज्य में वेतन दिया जाता है तो किसी में नहीं।

उम्मीद करते हैं अब आप जान गए होंगे कि BDC क्या होता है BDC का वेतन कितना होता है, और BDC में चुनाव लड़ने के लिए क्या Process होता है, तो अगर आपको हमारे आज के आर्टिकल द्वारा दी गई जानकारी पसंद आए तो इसे आगे भी जरूर शेयर करें और नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें जरूर बताएं ताकि हम आगे भी आपके लिए ऐसे जानकारी भरे आर्टिकल लाते रहे।

यह भी पढ़ें।

Leave a Comment